बुधवार, 6 मार्च 2019

क्षणिकाएँ: वसंत


एक कली
खिल गयी
दर्पण देख 
शरमा गयी.

बसंती बयार में 
भटक गया जी 
भौरें के प्यार में 
डूब गई कली.
 
 बसंती बयार में 
दिल मेरा बौराया 
 क्षणिक प्रेम के लिए
विरह चिरंतन जिया.

वासंतिक फूल 
मुरझा गया
माटी को अपनी
 खुशबू दे गया.










गुरुवार, 17 जनवरी 2019

द्रोपदी का वस्त्र हरण



डर मत, घबरा मत 
कर विवस्त्र द्रोपदी को 
नचा उसको छमाछम 
भरे दरबार में आज . 

नाचेगी राजपथ पर 
कुलवधू आज 
वासनामयी नजरे 
बरसाएंगी सुवर्ण, 
द्रोपदी के नग्न तनु पर.

अनायस ही भर जायेगा
राजकोष भी आज. 

डर मत, घबरा मत .......धृ
 
जम गया है खून 
भीम  का आज
बाण अर्जुन के भी 
कुंद हो गए हैं आज
जुए को ही धर्म
मानता धर्मराज है आज.

डर मत, घबरा मत .......धृ

नहीं है आज कोई 
कृष्ण सुदर्शनधारी
डाल-डाल पर है बसेरा 
मांस नोचते गिद्धोंका
 धर्म न्याय के ज्ञाता 
भीष्म भी है सहमत
नाचेगी कुलवधू 
भरे दरबार में आज.

डर मत, घबरा मत .......धृ

चारण भाट गायेंगे 
नग्न तनु के गीत आज 
देह की गंध में डूबेगा 
अंधा धृतराष्ट्र आज.

डर मत, घबरा मत .......धृ
 

बुधवार, 14 नवंबर 2018

हायकू: दिल्ली की हवा


हवा दिल्ली की
हलाहल से विषैली 
धीमे-धीमे लेती प्राण. 

स्माग में देखा 
यम का चेहरा 
कंठ में आया प्राण.

मंगलवार, 6 नवंबर 2018

मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

प्रदूषण, पराली और दिल्ली


अक्तूबर महीना शुरू होते ही दिल्लीमें बढ़ते प्रदूषण पर चर्चाएँ शुरू हो जाती है. आज तो वायु गुणवत्ता निदेशांक केन्द्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन पर ३०० ऊपर अर्थात अत्यंत खरनाक स्तर पर है. बाकि दिल्ली का हाल इससे भी बुरा होगा. दिल के मरीज और अस्थमा के मरीजोंको तो आज घर से निकलना ही नहीं चाहिए.  

अब मीडिया और व्यवस्था का भोंपू बजना शुरू हो गया है. किसानोंने पराली जलानी नहीं चाहिए. प्रदूषण मुक्त दीवाली मनानी चाहिए, फटाके कदापि नहीं चलाने चाहिए इत्यादी. पराली के उपयोग और उसके निपटान की विधियों पर टीवी पर भारी चर्चा और अखबार आदि में बड़े बड़े लेख छपेंगे. न्यायलय भी पराली जलाने वाले किसानों पर कड़ी कार्रवाई के आदेश देगा.  किसान भी पराली जलाएंगे हमेशा की तरह. 

कल मेट्रो से घर जा रहा था. मुंह पर मास्क लगाये एक नौजवान ने सीट बैठे बूढ़े चौधरी की तरफ इशारा करते हुए कहा, ये लोग पराली चलते हैं और उसका नतीजा दिल्ली में हमें भुगतना पड़ता है. चौधरी को उसकी आवाज सुनाई दे गई. चौधरी का दिमाग सटक गया, वह जोर से बोला. हम तो साल में ज्यादा से ज्यादा १५-२० दिन पराली जलाते होंगे. तुम्हारी दिल्ली में लाखो गाड़ियां क्या रस्ते पे  खुशबू  बिखेरते हुए चलती है. दिल्ली का धुआं भी पंजाब हरियाणा पहुँचता है. कभी इस पर मिडिया में चर्चा हुई है. सत्य कडवा होता है, नौजवान को छोडो हम सभी की बोलती बंद हो गई. 

आज दिल्ली में १ करोड़ से ऊपर गाड़ियां सड़क पर चलती है. जिसमे ३२ लाख से ऊपर कार रोज सड़क पर होती है. ९०% कार मालिक आय कर भी नहीं भरते. बैंक सस्ते में कार लोन देते हैं.  सरकार भी पीछे नहीं रहती. गरीबोंके नाम पर पेट्रोल पर  सब्सिडी देती है. "सस्ते में कार खरीदो और प्रदूषण फैलाओ" शायद यही प्रशासन मनसुबा है. दूसरी तरफ पराली जलाने से  ज्यादासेज्यादा वायु गणवत्ता निदेशांक में २५ से ५० अंकों  की बढ़ोतरी  होती होगी. फिर भी प्रदूषण का ठीकरा किसानोंके  सर पर फोड़ा जाता है. अजीब नहीं लगता यह सब. 

प्रशासन सचमुच दिल्ली का प्रदूषण कम चाहता है, तो उसे सर्वप्रथम दिल्लीमें कारोंकी संख्या कम करने का उपायढूंढना होगा. कार पर  जीएसटी बढानी पड़ेगी, पार्किंग शुल्क बढ़ाना पडेगा. पेट्रोल  केवल  कार  में इस्तेमाल होता है, उसका रेट १०० क्या १५० भी कर दिया तो कोई फर्क नहीं पड़ता.  हाँ दिल्ली में १० लाख कार डिजेल पर भी चलती है. उन कारों पर साल का ५० से लाख रूपये डिजेल कार कर लगाया जा सकता है. ताकि ग्राहक डिजेल पर चलने वाली कार ना ख़रीदे. उसी धन को मेट्रो के विस्तार में और डीटीसी को सुधारने पर व्यय किया जा सकता है. १९९७ में दिल्ली की आबादी ८५ लाख थी और डीटीसी बसेस ८५०० थी. आज दिल्ली की आबादी २.५० करोड़ है और बसेस केवल ४५०० है.  मेट्रो फेज-IV पर भी अभी तक प्रशासन ने कोई निर्णय नहीं लिया है. निश्चित ही यह बड़ी दयनीय स्थिति है. प्रशासन दिल्ली  के प्रदूषण के लिए कभी राजस्थान से आने वाली धूल, काफी फटाकों को तो कभी खेत में जलने वाली पराली को दोष देता है. वैसे मैं खेत में पराली जलाने का कदापि समर्थन नहीं करता परन्तु पेट्रोल पर  सब्सिडी देने से अच्छा पराली के निपटान पर किसानों को सब्सिडी देना ज्यादा उचित  समझता हूँ.


सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

पोपट बोला मिटू-मिटू


पोपट बोला 
मिटू-मिटू.

वकील बोला 
नोटीस आया.

पोलीस बोला 
चलो ससुराल.

मिटू-मिटू पोपट बोला 
उसको हार्टअटेकच  आया.
पती पत्नी वो का 
नतीजा सामने आया.


सोमवार, 8 अक्तूबर 2018

हायकू : सीता


(सीता किसान के खेत में उत्पन्न होती है.  उपज का एक हिस्सा राजा को कर के रूप में दिया जाता था.  जिसका प्रयोग राजा जनहित के लिए करता था, कृषकों की सुरक्षा करता था. परन्तु रावण ने भारतीय किसानों से  भरी कर इकठ्ठा कर लंका को सोने की बनाया. श्रीराम ने वह सीता  किसानों को लौटाई- हायकू में यही भाव प्रगट करने का प्रयास किया है)


खेत में मिली
सुवर्ण लक्ष्मी
किसान के.

कैद हुई 
दरबार में 
राजा के.

त्याग किया 
सीता का
वास्ते जनहित के.

लक्ष्मी के पैरोंसे 
उजियारा आया
घर किसान के.